Breaking News
Home / खबरे / क्रिकेट खेलने के लिए इशान किशन ने छोटी सी उम्र में छोड़ा था पटना, कई रात भूखे पेट सोए

क्रिकेट खेलने के लिए इशान किशन ने छोटी सी उम्र में छोड़ा था पटना, कई रात भूखे पेट सोए

इशान किशन ने श्रीलंका के खिलाफ अपना पहला इंटरनेशनल वनडे मैच खेला था किसी दिन उनका जन्मदिन भी था । ईशान किशन का जन्म 18 जुलाई 1998 को बिहार की राजधानी पटना में हुआ था इशान किशन पटना में जन्मे दूसरे भारतीय खिलाड़ी हैं, जिन्होंने अपने जन्मदिन के दिन इंटरनेशनल वनडे मैच में डेब्यू किया है। आपको बता दें कि इशान किशन से पहले गुरु शरण सिंह ने अपने जन्मदिन पर भारतीय टीम में वनडे इंटरनेशनल मैच में डेब्यू किया था। गुरु शरण सिंह का जन्म 8 मार्च 1963 पंजाब के अमृतसर में हुआ था उन्होंने 8 मार्च 1980 को हैमिल्टन में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अपना पहला वनडे मैच खेला था।

आपको बता दें कि जब ईशान किशन को भारतीय टीम अंडर-19 के लिए चुना गया था तब उस टीम के कोच राहुल द्रविड़ थे । खास बात यह है कि अब श्रीलंका के खिलाफ होने वाले मैचों में भी टीम इंडिया के कोच राहुल द्रविड़ की है। इशान किशन ने 14 मार्च 2021 को अहमदाबाद में इंग्लैंड के खिलाफ खेले गए टी-20 मैच में कदम रखा है। इशान किशन ने अपने पहले T20 मैच में 32 गेंदों में 56 रन बनाए थे और उन्होंने इसी के साथ एक नया रिकॉर्ड भी बना दिया ।

काफी संघर्ष किया है

ईशान किशन चयनकर्ताओं का विश्वास जीतने के लिए क्रिकेट में काफी संघर्ष किया है। ईशान किशन बचपन से कोच कुत्ता मजेदार के साए में खेले हैं। एक रिपोर्ट के अनुसार ईशान किशन को पहली बार 2005 में देखा गया था । ईशान किशन के पिता प्रणव पांडे का कहना है कि उत्तम मजमुदार ने मुझे कहा कि कुछ भी करना लेकिन अपने बेटे का क्रिकेट कभी बंद मत करना। उनके पिता मजूमदार के पास चयन के लिए भी गए थे।

12 साल की उम्र में छोड़ा पटना

आपको बताना चाहेंगे कि जब ईशन किशन 12 साल के थे तो उन्होंने पटना छोड़ दिया था ईशान किशन के पिता का कहना है कि इशान किशन तब बहुत छोटे थे और उनके लिए घर से दूसरी जगह जाना संभव नहीं था। लेकिन लोगों का कहना था कि अगर इंसान किशन को बड़े स्तर पर क्रिकेट खेलना है तो उन्हें रांची जाना पड़ेगा। जब किसान किसान को पड़ोसी राज्य भेजने की बात हुई तो उनकी मां काफी परेशान हो गई थी और मुझे भी डर लग रहा था लेकिन इंसान किशन राठी जाने की जिद पर अड़ा रहा था।

सोना पड़ा था भूखे पेट

इशान किशन जब रांची के जिला क्रिकेट टूर्नामेंट सेल में रहते थे तो उन्हें एक कमरे में रहना पड़ता था उनके साथ चार अन्य सीनियर क्रिकेटर भी रहते थे ईशान किशन के छोटा होने के कारण उनका काम बर्तन साफ करना और पानी भर कर रखना होता था। ईशान किशन के छोटे होने के कारण मैं खाना बनाना नहीं आता था तो वह कई बार भूखे पेट भी सोए हैं।

 

 

 

About Mohit Swami

Leave a Reply

Your email address will not be published.