Breaking News
Home / खबरे / IAS इंटरव्यू में साड़ी के पल्लू को लेकर पूछा सवाल, यह जवाब देकर अपाला बनी टॉपर

IAS इंटरव्यू में साड़ी के पल्लू को लेकर पूछा सवाल, यह जवाब देकर अपाला बनी टॉपर

भारत में यूपीएससी परीक्षा सबसे कठिन मानी जाती है। यूपीएससी की तैयारी करने के लिए उम्मीदवार दिन रात एक कर देते हैं। उसके बावजूद भी यह गारंटी नहीं होती कि उनका सिलेक्शन हो जाएगा। जैसा कि आप जानते हैं यूपीएससी की परीक्षा पास करके आईएएस बनने के लिए तीन स्तर पार करने पड़ते हैं इसके लिए पहले यूपीएससी प्री इसके बाद यूपीएससी मैंस और सबसे अंत में इंटरव्यू होता है। इंटरव्यू राउंड बेहद महत्वपूर्ण और कठिन होता है।

अपाला ने शानदार इंटरव्यू से बनाया रिकॉर्ड

आज हम बात कर रहे हैं यूपीएससी की परीक्षा देकर 9 वी रैंक हासिल करने वाली गाजियाबाद के रहने वाली डॉक्टर अपाला मिश्रा के बारे में जिन्होंने इंटरव्यू इतने बेहतरीन ढंग से दिया कि एक रिकॉर्ड बना डाला। एक बातचीत के दौरान उन्होंने बताया कि इंटरव्यू राउंड में उन्हें 215 अंक हासिल हुए थे और उनका दावा है कि यह एक नया रिकॉर्ड है आज तक किसी ने भी इंटरव्यू राउंड में इतने अंक हासिल नहीं किए हैं।

डॉक्टर अपाला से पूछा गया यह सवाल

डॉक्टर अपाला मिश्रा ने यूपीएससी की दोनों परीक्षा पास करके इंटरव्यू राउंड दिया इस समय उन्हें 40 मिनट तक है सवाल पूछे गए जिनका उन्होंने बेहतरीन ढंग से जवाब दिया। अपाला मिश्रा ने बताया कि इंटरव्यू शुरू होने से पहले वह थोड़ी सी नर्वस दिखाई दे रही थी लेकिन उसने अपने आत्मविश्वास को डगमगाने नहीं दिया।। उन्होंने बताया कि इंटरव्यू में आपके प्रेजेंटेशन के साथ-साथ आपकी पर्सनलिटी स्किल्स को भी बारीकी से देखा जाता है। हर एक छोटी छोटी चीज पर गौर किया जाता है और हर एक हरकत को बारीकी से तरासते हैं।

डॉक्टर अपाला मिश्रा से इंटरव्यू राउंड के दौरान एक बेहद रोचक सवाल पूछा गया उनसे सवाल पूछा कि उन्होंने साड़ी किस तरह की पहनी है और उसकी साड़ी पर बनी बॉर्डर क्या दर्शाती है। इसका जवाब देते हुए अपाला ने बताया कि इस साड़ी की बॉर्डर पर एक वर्ली पेंटिंग की गई है जो महाराष्ट्र के सहयाद्री की है और इस बॉर्डर पर किया गया काम सामान्य जनजीवन को दर्शाता है। डॉक्टर अपाला के इस जवाब से इंटरव्यू लेने वाले काफी संतुष्ट दिखाई दिए।

एक सवाल में उनसे पूछा गया कि कोई भी किसी तरह की कविता सुनाइए। जवाब में अपाला मिश्रा ने कहा कि “यह कविता अपने भाई के लिए लिखी हैं क्योंकि भाई मेजर है और उन्हीं के लिए यह कविता समर्पित है।” फिर उन्होंने अपनी कविता की दो पंक्तियां साझा की। उन्होंने कहा “जब मैं आपको देखती हूं तो मेरे देश को देखती हूं। जब मैं आप को सैल्यूट करती हूं तो मेरे देश को भी सेल्यूट करती हूं।”

About Mohit Swami

Leave a Reply

Your email address will not be published.