Breaking News
Home / खबरे / मां ने मजदूरी कर पढ़ाया, आज बन गया आईएएस कहानी है बेहद रोचक

मां ने मजदूरी कर पढ़ाया, आज बन गया आईएएस कहानी है बेहद रोचक

इंसान जब कुछ कर गुजरने की ठान लेता है तो कोई भी उसे नहीं रोक पाता है। भारत में ऐसे काफी लोग हैं जो गरीबी में जीते हैं जिनको उनके माता पिता मेहनत मजदूरी कर कर पढ़ाते हैं और एक सफल और उज्जवल भविष्य की कामना रखते हैं। ऐसे मजदूरी करने वाले गरीब माता-पिता जब ऐसे सपूत को पैदा करते हैं जो आगे जाकर उनको इस गरीबी से ऊपर उठा सके तो भला इससे अच्छी बात और क्या हो सकती है। आज आपको ऐसी ही एक कहानी बताते हैं जिसमें एक मां ने मजदूरी करके अपने बेटे को पढ़ाया और आज वह देश के सबसे ऊंचे पद आईएएस पर कार्यरत है।

बचपन में खो दिया था पिता, मां ने मजदूरी कर पढ़ाया

हम बात कर रहे हैं राजस्थान के दौसा जिले के सीकर आया क्षेत्र के नाहरखोरा गांव की। जहां बेहद गरीबी में जन्मे एक शख्स ने पूरे देश में खुद का और अपने माता-पिता का नाम रोशन किया है। दौसा जिले के रहने वाले अरविंद कुमार मीणा का जन्म गरीब परिवार में हुआ और मात्र 12 साल की उम्र में उन्होंने अपने पिता को खो दिया जिसके बाद उनकी मुसीबतें और अधिक बढ़ गई। पिता के जाने के बाद माता ने जैसे तैसे करके बच्चे को पढ़ाया और इस काबिल बनाया कि वह खुद के पैरों पर खड़ा हो सके।

मिट्टी के बने घर में रहते थे फिर मिला सुनहरा जीवन

अरविंद मीणा अपनी माता के साथ मिट्टी के बने घर में रहता था और उसकी मां मेहनत मजदूरी करके कुछ पैसे बचा पाती थी जिससे दो वक्त का खाना ही नसीब हो पाता था। घर की ऐसी हालत ने अरविंद को इस कदर मजबूर कर दिया कि उसने एक बार पढ़ाई छोड़ने का फैसला कर लिया और मजदूरी करके खुद का और अपनी मां का पेट भरने का विचार बनाया। अरविंद के पढ़ाई छोड़ने के विचार पर उसकी मां ने हौसला बढ़ाया और हिम्मत दी की तुम्हारी मेहनत के बलबूते ही हम इस गरीबी से ऊपर उठ सकते हैं।

पहले सशस्त्र सीमा बल में चयन इसके बाद बने आईएएस अफसर

बचपन में बेहद गरीबी से गुजरे अरविंद ने हिम्मत नहीं हारी और लगातार मेहनत करते रहे इसके बाद अंत में उनकी मेहनत रंग लाई और उनका सीमा सशस्त्र बल में सहायक कमांडेंट के पद पर चयन हो गया। लेकिन अरविंद यही नहीं रुकने वाले थे और उन्होंने नौकरी लगने के बाद भी यूपीएससी की तैयारी लगातार जारी रखें और अंत में वह यूपीएससी की परीक्षा पास करने में सफल रहे और उन्होंने 676 वी रैंक हासिल की है। आज वह आईएएस के पद पर तैनात हैं।

About Mohit Swami

Leave a Reply

Your email address will not be published.