Breaking News
Home / जरा हट के / दिल्ली की कनिका कूड़े कचरे से कमा रही हैं 50 लाख रुपए सालाना

दिल्ली की कनिका कूड़े कचरे से कमा रही हैं 50 लाख रुपए सालाना

प्लास्टिक का कचरा या प्लास्टिक वेस्ट आज पूरे विश्व के लिए एक बहुत बड़ी समस्या बन गई है। इस कचरे से पर्यावरण को बहुत ज्यादा नुकसान हो रहा है । अगर यह कचरा यूं ही बढ़ता रहा तो 1 दिन ऐसा होगा कि इस कचरे को धरती पर स्टोर करने की जगह ही नहीं बचेगी। यही प्लास्टिक वेस्ट दुनिया भर में काफी लोगों की मौत का कारण बन गया है। ज्यादातर देखा गया है कि गरीब और झुग्गी झोपड़ियों में रहने वाले बच्चे इसका शिकार हो जाते हैं हम। इसी प्लास्टिक के कचरे को खत्म करने और इससे छुटकारा पाने के लिए कुछ लोग इसके लिए काम कर रहे हैं। इसी तरह का काम दिल्ली में रहने वाली कनिका अहूजा भी करती है। वह इस कचरे से तो छुटकारा दिला ही रही है इसके साथ साथ वह है इससे कमाई भी कर रही है। और लगभग 200 लोगों को रोजगार भी मिल रहा है।

35 साल की है कनिका

दिल्ली में ही पली-बढ़ी कनिका महेश 30 साल की है उनके पिता चलो पूजा और उनकी माता का नाम अनीता हो जा है। बात करें उनके पिता और माता की तो वह पहले से ही बैनर तले वेस्ट मैनेजमेंट के काम से जुड़े हुए हैं। उनके माता-पिता 20 साल से इस काम से जुड़े हुए हैं। हालांकि यह बात अलग है कि वह कमर्शियल लेवल पर इस काम को नहीं कर रहे हैं। बात करें कनिका के दो कनिका ने दिल्ली यूनिवर्सिटी से एमबीए करने के बाद एक कंपनी में महज 6 महीने काम किया उसके बाद वह हॉस्टल इन हाईकमान से जुड़ गई और वहां कुछ साल काम किया।

नौकरी छोड़ काम शुरू किया

कनिका की बात करें तो साल 2017 में उन्होंने तय किया कि वह अभी नौकरी नहीं करेंगी। नौकरी छोड़ने के बाद उन्होंने पर्यावरण के लिए कुछ करने की ठानी । उन्होंने अपने माता पिता की तरह की प्लास्टिक मैनेजमेंट की फील्ड को चुना और उस पर काम करने लगी। उन्होंने देखा कि कचरा बीनने वाले लोग दिन भर मेहनत कर कर भी इतनी कमाई नहीं कर पाते और ना ही उनके परिवार का पालन पोषण ठीक से हो पा रहा है। इसी के चलते उन्होंने तय किया कि वह इस प्लास्टिक से अपने शहर को मुक्ति दिलाएंगे और स्लम एरिया में रहने वालों लोगों के लिए नए रोजगार शुरू करेंगी ।

2017 में शुरू की कंपनी

कनिका ने साल 2017 में लिफाफा नाम की है खुद कंपनी शुरू की। इस कंपनी मैं उन्होंने प्लास्टिक वेस्ट से बनने वाली कुछ चीजों को बनाना शुरू किया इनमें से फैशन जगत से चूड़ी को चीजें थी। उनके पिता ने कनिका के लिए इस काम को करने के लिए आने वाली सभी मशीनरी और इक्विपमेंट्स की व्यवस्था की। कनिका अभी कचरा बीनने वाले लगभग 200 लोगों के साथ मिलकर काम कर रही हैं और उनको अच्छी खासी सैलरी भी दे रही है।

About Mohit Swami

Leave a Reply

Your email address will not be published.