Breaking News
Home / खबरे / इस किसान ने 51 लाख रुपए में बेचा अपनी भैंस को, भैंस ने बनाया था वर्ल्ड रिकॉर्ड

इस किसान ने 51 लाख रुपए में बेचा अपनी भैंस को, भैंस ने बनाया था वर्ल्ड रिकॉर्ड

भारत एक कृषि प्रधान देश है और यहां अधिकतर जनता गांव में रहती है और खेती करके अपना गुजारा करती है। खेती करने के साथ-साथ मवेशियों को पालना भी भारत का हमेशा से एक रिवाज रहा है। भारत में गाय भैंस भेड़ बकरी ऊंट आदि जानवरों को पाला जाता है। कुछ समय पहले पंजाब के ही एक किसान की भैंस ने पूरी दुनिया में वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया था। यह वर्ल्ड रिकॉर्ड उन्होंने सबसे अधिक दूध देने वाली भैंस के तौर पर बनाया जिसका नाम सरस्वती है। इस भैंस के मालिक किसान सुखबीर ने इस भैंस को ₹51 लाख में बेच दिया है। क्योंकि उनका कहना था कि यह भैंस कभी भी चोरी हो सकती है इससे अच्छा है कि इसे बेच दिया जाए।

पाकिस्तानी भैंस को हराकर बनाया था वर्ल्ड रिकॉर्ड

भारत के किसान सुखबीर की भैंस सरस्वती ने पाकिस्तान की एक भैंस को दूध देने के मामले में हराकर वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया था। आपको बता दें कि पाकिस्तानी भैंस ने 32.050 किलोग्राम दूध दिया जबकि भारतीय भैंस सरस्वती ने 33.131 किलोग्राम दूध देकर उसे हरा दिया तथा यह पूरी दुनिया में एक वर्ल्ड रिकॉर्ड बन कर सामने आया।

आपको बता दें कि सरस्वती भैंस के मालिक सुखबीर ने अपनी भैंस को 4 साल पहले बरवाला के खोखा गांव के रहने वाले किसान से खरीदा था। इसके बाद यह भैंस कई बच्चों को भी जन्म दे चुकी है। अब सुखबीर को वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाने के बाद यह बात सताने लगे कि उनकी भैंस सरस्वती को कोई चोरी करके ले जा सकता है। इसलिए उन्होंने इसे बेचना ही मुनासिब समझा और 51 लाख रुपए में लुधियाना के पवित्र सिंह को बेच दिया।

भैंस को बेचते समय लगभग 700 किसान हुए थे शामिल

पंजाब के रहने वाले सुखबीर ने जब अपनी इस भैंस को बेचने का मन बनाया तो इसके बाद उन्होंने एक समारोह का आयोजन किया जहां अलग-अलग राज्यों से लगभग 700 किसान समारोह में शामिल हुए। इनमें राजस्थान यूपी हरियाणा पंजाब के किसान थे। यह भैंस अपने दूध के बलबूते पर सुखबीर को हर महीने 100000 से अधिक रुपए की कमाई देती थी लेकिन अब चोरी होने के डर के कारण है मजबूरी में इसे बेचना पड़ रहा है।

मीडिया से बातचीत के दौरान सरस्वती भैंस के मालिक सुखबीर ने बताया कि मेरी भैंस ने 29.31 किलो दूध देकर हिसार में पहला प्राइज जीता था इसके बाद हिसार में होने वाले सेंट्रल इंस्टीट्यूट ऑफ बफैलो रिसर्च के कार्यक्रम में 28.7 किलो दूध देकर सरस्वती प्रथम स्थान पर रही थी। यही नहीं इसके अलावा भी यह भैंस काफी जगहों पर प्रतियोगिताएं जीत चुकी है।

About Mohit Swami

Leave a Reply

Your email address will not be published.