Breaking News
Home / खबरे / UPSC 2021 में अंकिता जैन ने बीमार होने के बाद भी इस तरह तैयारी करके हासिल किया तीसरा स्थान

UPSC 2021 में अंकिता जैन ने बीमार होने के बाद भी इस तरह तैयारी करके हासिल किया तीसरा स्थान

यूपीएससी की परीक्षा भारत में सबसे बड़ी परीक्षा मानी जाती है इसकी तैयारी के लिए लोग काफी सालों तक मेहनत करते हैं। इसके बावजूद भी नतीजा पॉजिटिव निकले इसकी उम्मीद बहुत कम होती है। काफी लोगों का मानना है कि यूपीएससी की परीक्षा इतनी कठिन नहीं होती बस इसके लिए व्यक्ति का एकाग्र और मेहनत जरूरी है।

काफी लोग ऐसे होते हैं जो यूपीएससी की तैयारी करते हैं लेकिन इसके बाद जब उनका सिलेक्शन नहीं होता है तो वह सदमे में आ जाते हैं और उनका मानसिक संतुलन बिगड़ जाता है वही काफी लोग ऐसे होते हैं जो एक बार असफल होने के बाद भी लगातार मेहनत करते रहते हैं और एक दिन जरूर सफल होते हैं।आज आपको एक ऐसी ही कहानी के बारे में बताते हैं जिसमें 4 बार सिविल सर्विसेज की परीक्षा दे चुकी अंकिता जैन चौथे प्रयास में सफल हुई।

बीमार होने के बावजूद भी इस तरह की तैयारी

भारत की राजधानी दिल्ली के शास्त्री नगर के रहने वाले अंकिता जैन ने अपने मेहनत और लगन की बदौलत चौथे प्रयास में आईएएस की परीक्षा उत्तीर्ण की। अंकिता फिलहाल मुंबई में अकाउंटेंट ऑफिसर के तौर पर तैनात है। अंकिता ने दिल्ली यूनिवर्सिटी से अपनी पढ़ाई पूरी की है। 28 वर्षीय अंकिता की शादी एक आईपीएस अधिकारी अभिनव त्यागी से हुई है जो फिलहाल महाराष्ट्र में तैनात हैं।

ऑल ऑल इंडिया तीसरी रैंक की हासिल

दिल्ली की रहने वाली अंकिता जैन ने सिविल सर्विसेज परीक्षा में ऑल और इंडिया में तीसरी रैंक हासिल की है यही नहीं उनकी बहन वैशाली जैन ने भी इसी परीक्षा में 21 वी रैंक हासिल की है। अंकिता जैन ने एक इंटरव्यू के दौरान बताया कि एक व्यक्ति का पढ़ाई करना बहुत जरूरी होता है अगर फिलहाल जो माहौल चल रहा है उसके अनुसार कोचिंग ज्वाइन नहीं कर सकते हैं तो ऑनलाइन भी क्लास ले सकते हैं और ऑनलाइन पढ़ाई करके अपने सपने साकार कर सकते हैं।

परीक्षा से 1 महीने पहले हुई थी बीमारी का शिकार

आपको बता दें कि पिछले 2 साल से भारत समेत पूरी दुनिया परेशान चल रही है। ऐसे में यूपीएससी की परीक्षा की 1 महीने पहले अंकिता जान बहुत अधिक बीमार हो गई थी और उन्हें क्वॉरेंटाइन कर दिया गया था जिसके बाद ऑनलाइन कक्षाएं लगती थी अंकिता जैन ने बताया कि वह अधिकतर अपनी बहन के नोट्स से पढ़ती थी और उसकी बहन वैशाली भी 21 वी रैंक हासिल करके आईएएस अधिकारी बन चुकी है। आईएएस का रिजल्ट 24 सितंबर को आया था जिसमें शुभम ने प्रथम स्थान हासिल किया और कुल 761 कैंडिडेट पास हुए हैं।

About Mohit Swami

Leave a Reply

Your email address will not be published.