Breaking News
Home / खबरे / साड़ी पहनने पर रेस्त्रां में एंट्री न दिए जाने के मामले पर महिला आयोग ने लिया यह कड़ा फैसला

साड़ी पहनने पर रेस्त्रां में एंट्री न दिए जाने के मामले पर महिला आयोग ने लिया यह कड़ा फैसला

दोस्तों जैसा की आप सभी जानते होंगे की भारत की संस्कृति पूरे विश्व में सबसे अलग है। भारत में अनेक जाती व धर्म के लोग रहते हैं, व हजारों तरह की बोली भारत में बोली जाती है। लेकिन भारत की संस्कृति और रीति रिवाज पूरे विश्व में बहुत फेमस है। लेकिन कई बार ऐसी घटनाएं हो जाती है जिसमें आपके संस्कार की वजह से आपके साथ दुर्व्यवहार होता है।

दिल्ली के रेस्टोरेंट में साडी पहनना क्यो हुआ निषेध

दिल्ली में स्थित एक रेस्टोरेंट के मैनेजमेंट द्वारा कथित तौर पर साड़ी पहनने की वजह से एक महिला को एंट्री ना देने के मामला कुछ दिन पहले सामने आया था। इस मामले में अपडेट ये है कि राष्ट्रीय महिला आयोग ने दिल्ली पुलिस से इस पूरे मामले की जांच करने के लिए कहा है। साथ ही पुलिस से जरूरी कार्रवाई करने के लिए भी कहा है। आयोग की तरफ से कहा गया कि साड़ी भारतीय संस्कृति का अभिन्न हिस्सा है और देश की ज्यादातर महिलाएं इसे पहनती हैं।

महिला आयोग ले सकता है यह बड़ा फैसला

भारत में हर इंसान को अपनी पसंद के कपड़े पहनने का अधिकार है। आप अपनी पसंद के कपड़े पहन सकते हो। लेकिन आप कपड़ों के हिसाब से किसी को जज नहीं कर सकते। महिला आयोग ने इस घटना को बहुत सीरियसली लिया है,आयोग ने कहा कि अगर किसी महिला को साड़ी पहनने की वजह से किसी रेस्टोरेंट में एंट्री नहीं दी जाती है,

तो यह उसके सम्मान के साथ जीने के अधिकार का हनन है। क्या आपकी नजर में यह चीज सही है किसी महिला को साड़ी पहनने पर रेस्त्रां में एंट्री नहीं देना बहुत गलत है। इससे हमारे समाज पर बहुत गलत प्रभाव पड़ेगा। हमारी संस्कृति ही हमारी पहचान है और ऐसी घटना समाज में हमारी संस्कृति को नीचा दिखा सकती है।

महिला को मिलना चाहिए पूरा सम्मान

दोस्तों हमें ऐसी घटनाओं का विरोध करना चाहिए। हमारे समाज में महिलाओं को अभी भी वह मान सम्मान नहीं मिलता जो उनका अधिकार है। हमें पुरुष और महिलाओं के बीच में अंतर को हटाना पड़ेगा और महिलाओं को भी पुरुषों के बराबर अधिकार देने चाहिए तभी देश का विकास संभव है। और हम सब तभी आगे बढ़ सकते हैं।

आज हर क्षेत्र के अंदर महिलाएं पुरुषों से काफी आगे बढ़ रही है लेकिन उनको पुरुषों जितना अधिकार नहीं मिल पाता और वैसी सेवाएं नहीं मिल पाती जिससे वह आगे बढ़ सके ।बहुत सी महिलाओं में बहुत ज्यादा योग्यता होती है लेकिन समाज के कारण उनकी योग्यताओ को दबा दिया जाता है।

About Mohit Swami

Leave a Reply

Your email address will not be published.