Breaking News
Home / खबरे / दृष्टि-हीन हिमानी KBC में नहीं दे पाई 7 करोड़ के सवाल का जवाब, जाने क्या है सवाल

दृष्टि-हीन हिमानी KBC में नहीं दे पाई 7 करोड़ के सवाल का जवाब, जाने क्या है सवाल

हाल ही में कौन बनेगा करोड़पति का 13th सीजन शुरू हुआ है। इस शो को एक बार फिर बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन होस्ट कर रहे हैं। पिछले कुछ दिनों में शुरू हुए इस सीजन में पहली महिला करोड़पति सामने आई हैं जिसका नाम हिमानी बुंदेला है। कौन बनेगा करोड़पति में हॉट सीट पर बैठने की इच्छा है पूरे हिंदुस्तान में करोड़ों लोगों को है लेकिन इनमें कुछ ही ऐसे हैं जो यहां तक पहुंच पाते हैं यहां पहुंचने के बाद शो को होस्ट कर रहे अमिताभ बच्चन सवालों की झड़ी लगा देते हैं जिनके जवाब देते देते इंसान करोड़पति बन सकता है।

कौन है हिमानी बुंदेला

हिमालय बुंदेला आगरा की रहने वाली हैं। बचपन से हिमानी की आंखें एकदम सही थी लेकिन दुर्भाग्यवश 15 साल की उम्र में उनका एक्सीडेंट हो गया जिसके कारण उन्हें अपनी आंखें गंवानी पड़ गई। हिमानी परमाणु मुसीबतों का पहाड़ टूट पड़ा था जिंदगी में चारों तरफ एक दम अंधेरा छा गया था जिसके बाद हिमानी काफी नर्वस हो गई थी। बहन और पिता के अटूट प्यार और सहयोग की बदौलत हिमानी ने आगे बढ़ने का फैसला किया जब भी कभी हिमानी हिम्मत हार थी तो उनके बहन और पिता उन्हें हिम्मत देते।

कौन बनेगा करोड़पति के इस सीजन की पहली करोड़पति बनी

हिमानी बुंदेला एक दृष्टिहीन महिला है जिसने अपने जीवन में अपने इस कमजोरी को कभी सफलता के आड़े नहीं आने दिया। ग्रेजुएशन करने के बाद केंद्रीय विश्वविद्यालय की परीक्षा दी और फिलहाल बतौर शिक्षिका वहां कार्यरत हैं। खुद दृष्टिहीन होते हुए भी अब तक हिमानी ने काफी बच्चों के जीवन को रोशनी से भरा है। आपको बता दें कि कौन बनेगा करोड़पति के हाल ही चल रहे सीजन में हिमानी पहली करोड़पति बनी है पिछले सीजन में भी चार महिलाएं ही करोड़पति बनी थी।

हिमानी ने नहीं ली पूरे गेम में कोई लाइफ लाइन

हिमानी ने पूरे गेम में कोई भी लाइफ लाइन नहीं ली उन्होंने एक करोड़ तक के सभी सवालों का सटीक जवाब दिया आपको बता दें कि केबीसी में लाइफ लाइन मिलती हैं लेकिन इस दृष्टिहीन महिला ने उनका उपयोग नहीं किया एक करोड़ तक सभी सवालों के सही जवाब देने के बाद हिमानी से सात करोड़ का सवाल पूछा गया जिसका वह जवाब नहीं दे पाई।

यह है सात करोड़ का सवाल

Q. डॉ बी आर आंबेडकर द्वारा लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स में प्रस्तुत हुए थीसिस का शीर्षक क्या था, जिसके लिए उन्हें 1923 में डॉक्टरेट की उपाधि दी गई थी ?
a.द वांट्स एंड मीन्स ऑफ इंडिया
b.द प्रॉब्लम ऑफ रूपी
c. नेशनल डिविडेंट ऑफ इंडिया
d. द लॉ ऑफ लॉयर

इस सवाल का सही जवाब b ऑप्शन ‘द प्रॉब्लम ऑफ रूपी’ है।

About Mohit Swami

Leave a Reply

Your email address will not be published.