Breaking News
Home / खबरे / फिर से आ गया चुपचाप चोटी ग़ायब करने वाला व्यक्ति, 11 कक्षा की लड़कीं को बनाया पहला ये रही लौटने की वजह

फिर से आ गया चुपचाप चोटी ग़ायब करने वाला व्यक्ति, 11 कक्षा की लड़कीं को बनाया पहला ये रही लौटने की वजह

भारत मुख्य रूप से केवल दो भागों में विवाजित हो रखा है.पहला है ग्रामीण भाग ओर दूसरा है शहरी भाग. गाँवो ओर शहरों में सबसे बड़ा अंतर यह कि गाँव के रहने वाले लोग अंध-विश्वास जैसे टोना-टोटका जैसी चीजों में बहुत ज्यादा विश्वास रखते हैं जबकि शहरों में ऐसा बिल्कुल भी नही होता हैं. शहर में रहने वाले लोग इन चीजों के बारे में बिल्कुल भी नही सोचते है और अपने जीवन को मज़हे लेकर जीने में विश्वास रखते हैं. लेकिन कुछ चीजें होती हैं जो कि सच होती हैं.

11वी कक्षा के साथ हो गया चोटी काटने का वाक्य

हालहि में यूपी के एक गाँव का हादसा सामने आया है जिसमे एक 11वी कक्षा की पढ़ने वाली लड़की की सोते समय किसी ने उसे बेहोश करके आदी चोटी काट दी. जब सुबह यह लड़कीं सोकर उठी तो उसने देखा कि उसकी आधी चोटी जमीन पर कटी हई पड़ी है जिसे देखकर वह पूरी तरह डर गई. बात यहां तक आ गई कि डर के कारण यह बच्ची चक्कर खा कर गिर गई और बेहोश हो गई. आइये आपको बताते हैं क्या हैं पूरा मामलें ओर क्यों गाँव मे चोटी काटने वाले को लेकर डर का माहौल हैं

कटने लग गई फिर से लोगो की चोटिया , पहली ही शिकार बनी यूपी की 15 साल की लड़कीं

हालहि में यूपी के कानपुर जिले के एक छोटे से गाँव देहात की रहने वाली 15 साल की संध्या नाम की लड़कीं के साथ चोटी कटवा हो गया. मतलब सीधे शब्दो मे बोला जाए तो इस छोटी सी बच्ची की सोते समय किसी ने चोटी काट दी और उसे वही पटक दिया. कुछ समय पहले भी ऐसी घटनाएं बहुत ज्यादा हो रही थी लेकिन फिर धीरे-धीरे सब कुछ ठीक हो गया था. हालात कंट्रोल में थे लेकिन हालहि जो इस संध्या नाम की लड़कीं के साथ हुए हैं उसे देखकर फिर से सभी लोग बहुत ज्यादा हैरान हो गए. लोगो के दिलो में फिर से इस घटना को लेकर ख़ौफ़ पैदा हो गया हैं जिसकी चलते इस समय कानपुर के इस गाँव की सभी महिलाएं ख़ौफ़ में जी रही हैं.

बचने के लिए करने होंगे यह उपाय , नही तो होगा अगला नंबर आपका

कानपुर की संध्या के साथ जो चोटी कटने का वाक्य हो गया उसने गाँव के सभी लोगो को सबक दे दिया कि अब सभी महिलाओं को संभल कर रहना होगा. चोटी कटने से बचने के लिए सबसे पहले महिलाओं को अपने सिर को कपड़े से ढक कर रखना होगा ओर इसका साथ ही अपने बालों को जस तरह रखना होगा कि कोई भी आराम से उनकी चोटी को नही काट सके. अगर सीधे शब्दों में बोला जाए तो कुछ दिनों तक महिलाओं को चोटी बनना बन्द कर देना चाइए. जब तक हालात ठीक नही हो जाते. चोटी करने की जगह या तो अपने बालों को खुला रखो नही तो उनका एक जुड़ा बना कर ताकि आसानी कोई भी उसे नही काट पाए.

About Mohit Swami

Leave a Reply

Your email address will not be published.