Breaking News
Home / खबरे / शही-द की बेटी ने डॉक्टर की पढाई छोडकर बनी पुलिस ऑफिसर, वजह है की

शही-द की बेटी ने डॉक्टर की पढाई छोडकर बनी पुलिस ऑफिसर, वजह है की

उत्तर प्रदेश के कानपुर में पिछले वर्ष 2 जुलाई 2020 को बिकरू कांड हुआ था। इस बिकरु कांड में उत्तर प्रदेश के कुख्यात गैंगस्टर विकास दुबे और उसके साथियों ने 8 पुलिसकर्मियों की हत्या कर दी थी। शहीद हुए इन्हीं 8 पुलिसकर्मियों में एक CO देवेंद्र मिश्र भी शामिल थे। शहीद देवेंद्र मिश्र की एक बेटी है जिसका नाम वैष्णवी मिश्र है जो एक डॉक्टर बनना चाहती थी और पिता देवेंद्र मिश्र का भी यही सपना था कि उनकी बेटी डॉक्टर बने इसके लिए वैष्णवी मिश्र ने NEET की परीक्षा भी क्वालीफाई कर ली थी लेकिन पिता के शहीद होने के बाद वैष्णवी मिश्र ने अपना इरादा बदल लिया और पिता के पद चिन्हों पर चलने का फैसला किया और डॉक्टर बनने की बजाय पुलिस ज्वाइन कर लिया। अपने कर्तव्य की मिसाल पेश करते हुए वैष्णवी मिश्र ने पिता के जैसे पुलिस ज्वाइन कर देश सेवा करने का फैसला किया है।

वैष्णवी मिश्र को यूपी पुलिस ने विशेष कार्य अधिकारी यानी OSD के पद पर जॉइनिंग दी है एवं अभी वैष्णवी की ड्यूटी कानपुर पुलिस कमिश्नर ऑफिस में है दरअसल पिता के शहीद होने के बाद वैष्णवी ने पुलिस विभाग में ही जाने का निश्चय कर लिया एवं पुलिस ज्वाइन कर अंजाम तक भी पहुंचाया।पिछले वर्ष देवेंद्र मिश्र के शहीद हो जाने के बाद पूरे परिवार में मातम का माहौल था एवं सभी सदमे में थे लेकिन अब वैष्णवी मिश्र के पुलिस में चयन के बाद पूरे परिवार में खुशी का माहौल है।

वैष्णवी मिश्र की एक छोटी बहन भी है जो कानपुर में बीएससी की पढ़ाई कर रही है। मीडिया से बातचीत करते हुए वैष्णवी ने कहा कि वह पुलिस ज्वाइन करने के बाद काफी उत्साहित है एवं उन्होंने कहा कि पुलिस ज्वाइन करके उन्हें बहुत अच्छा लग रहा है और वह भी अपने पिता की तरह कठिन मेहनत करेगी और जो काम दिया जाएगा उसे पूरा करेगी। वैष्णवी मिश्रण ने यह भी कहा कि वह है आगे चलकर सिविल सर्विसेज के लिए तैयारी करेगी और सिविल सर्विसेज के द्वारा देश सेवा करना चाहती है।

क्या है बिकरू कांड का मामला

दरअसल पिछले वर्ष 2 जुलाई 2020 को देवेंद्र मिश्र अन्य पुलिस वालों के साथ उत्तर प्रदेश में कानपुर के बिकरू क्षेत्र में हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे के घर दबिश करने के लिए गए थे लेकिन गैंगस्टर विकास दुबे एवं उसके साथियों ने पुलिस पर अंधाधुंध फायरिंग शुरू कर दी एवं इसी फायरिंग में देवेंद्र मिश्र समेत आठ पुलिसकर्मी शहीद हो गए थे।
पुलिस ने इसके बाद में विकास दुबे को गिरफ्तार भी कर लिया था एवं अब विकास दुबे की मृत्यु भी हो चुकी है। पुलिस ने विकास दुबे को एनकाउंटर में मार डालने का दावा किया है।

About Mohit Swami

Leave a Reply

Your email address will not be published.