Breaking News
Home / खबरे / छोटी सी डिब्बी में समा जाता है बाइक का कवर, नई डिजाइन का कवर बाजार में मचा रहा धूम

छोटी सी डिब्बी में समा जाता है बाइक का कवर, नई डिजाइन का कवर बाजार में मचा रहा धूम

आज के समय भारत में हर घर में बाइक मिल जाती है। बाइक दुपहिया वाहन होने के कारण इसे बाजार में आसानी से चलाया जा सकता है और कमजोरी के लिए यातायात का सबसे बेहतर साधन भी माना जाता है। आप जानते हैं कि सभी व्यक्ति अपने टू व्हीलर या फोर व्हीलर की देखभाल करना नहीं भूलते। इसके लिए उन्हें कवर से ढक दिया जाता है ताकि बारिश आंधी या धूप में उनका वाहन खराब नहीं हो।

आज आपको एक ऐसे शख्स के बारे में बताते हैं जिसने बाइक का कवर बनाने के लिए एक स्टार्टअप कंपनी बाइक ब्लेजर लांच की। इस शख्स ने बाइक का कवर बनाने के लिए एक अनोखा डिजाइन तैयार किया है जिसे एक छोटी सी डिब्बी में समेटा जा सकता है।

बाइक ब्लेजर की शुरुआत 27 वर्ष के केशव राय ने की माता रेनू राय और पिता राकेश कुमार राय ने साथ मिलकर 2016 में इसकी शुरुआत की थी। केशव ने बताया कि इंजीनियरिंग की पढ़ाई करते समय उनके दिमाग में बाइक का एक अनोखा कवर बनाने का आईडिया आया था। इसके बाद उन्होंने इस पर काम किया और 2018 में आखिरकार सेमी ऑटोमेटिक बाइक कवर लॉन्च कर दिया था। इसे भारत समेत काफी देशों में पसंद किया जाता है।

किशोर राय का संघर्ष भरा रहा सफर

आपको बता दें कि कैसे हो रहा है पढ़ाई में एक सामान्य छात्र रहे हैं। केशव को कॉलेज जाना पसंद नहीं था इसलिए वह है क्लास में नहीं लगता था। केशव ने पार्ट टाइम जॉब करने के लिए मैकडी में काम किया लेकिन यहां भी उसका मन नहीं लगा इसके बाद उसने इस जॉब को छोड़ दिया। इसके बाद केशव ने एक अलार्म ऐप बनाने का विचार बनाया इस बारे में उसने अपने पिता से बात की पिता को भी अपने बेटे का यह आइडिया काफी पसंद आया लेकिन इसकी शुरुआत करने के लिए उन्हें पैसों की जरूरत थी। इस ऐप को बनाने के लिए और डिवेलप करने के लिए ₹100000 की जरूरत थी। पैसे लगाने के बाद भी वह इस ऐप को नहीं बना पाए और यह आईडिया छोड़ दिया।

मेट्रो स्टेशन पर आया विचार

केशव ने बताया कि इंजीनियरिंग के आखिरी साल में उसके सभी आईडिया फेल हो चुके थे इसके बाद वह काफी निराश हो गया था और उसने घर पर कहा कि वह अब अपने दोस्त के पास जाकर रहेगा। यह कहकर केशव घर से निकल आया लेकिन वह दोस्त के पास नहीं गया वह दिल्ली आकर सड़कों पर भटकने लगा और जैसे तैसे प्लेटफार्म और मंदिर में सोकर उसने अपने रातें गुजारी। एक बार कुसुंबी मेट्रो स्टेशन बैठे हुए उसे विचार है कि क्यों न वह बाइक का कवर बनाएं। इसके बाद उसने इस दिशा में अपना कैरियर बनाने का विचार किया। इसके बाद केशव ने बाइक ब्लेजर की शुरुआत की जिसे एक छोटी सी डिब्बी में पूरा बाइक कवर समेटा जा सकता है। इसकी कीमत भी मात्र 700 से लेकर 900 रुपए तक है।

About Mohit Swami

Leave a Reply

Your email address will not be published.