Breaking News
Home / खबरे / भीष्म पितामह का किरदार निभाने वाले इस अभिनेता की हालत दयनीय, खाने तक को नहीं है पैसे

भीष्म पितामह का किरदार निभाने वाले इस अभिनेता की हालत दयनीय, खाने तक को नहीं है पैसे

भीष्म पितामह एक ऐसा नाम है जिसे सुनकर लोगों में निष्ठा दृढ़ता और जुनून आ जाता है। हम बात कर रहे हैं 1996 में शुरू हुए एक सीरियल श्री कृष्णा की। इस सीरियल में भीष्म पितामह का किरदार सुनील नागर ने निभाया था। सुनील नागर को इस रोल के लिए काफी सराहा भी गया और उन्हें काफी पहचान भी मिली थी। इसके बाद उन्होंने काफी फिल्मों में भी सपोर्टिंग एक्टर के तौर पर कार्य किया। लेकिन धीरे-धीरे छोटे पर्दे और बड़े पर्दे पर इनका प्रभाव कम होता चला गया और आज हालत इतनी खराब हो गई है कि इनको खाने तक के लाले पड़े हुए हैं।

सुनील ने कहा- नहीं जानता किसे दोष दूं और क्या करूं

एक समय काफी हिट शो और सीरियल करने वाले सुनील नागर आज काफी परेशान हैं और बहुत गरीबी से गुजर रहे हैं। हाल ही में सुनील नागर ने इंडिया डॉट कॉम को दिए इंटरव्यू में कहा कि यह समय ऐसा है मुझे नहीं पता मैं किसे दोष दूं जब मैं काम कर रहा था तब मैंने खूब कमाई की मैंने कई हिट शो दिए और बहुत फिल्मों में काम भी किया लोगों ने मेरे काम को काफी पसंद किया था और मुझे जरूरत से ज्यादा ही काम मिलता जा रहा था लेकिन आज के वक्त मेरे पास कोई भी काम नहीं है मैं एक सिंगर भी हूं इसलिए कुछ दिन पहले मुझे एक रेस्टोरेंट से गाने के लिए ऑफर मिला लेकिन कोरोनावायरस के चलते वह भी बंद हो गया इसलिए मैं मेरा किराए भी नहीं दे पा रहा हूं।

कोरोना हो जाता तो इलाज के भी नहीं है पैसे

सुनील नागर ने बताया कि अगर उन्हें कोरोना हो जाता तो इसके इलाज के लिए भी उनके पास में पैसे नहीं है भगवान का शुक्र अदा करता हूं कि मुझे कोरोना नहीं हुआ। उन्होंने बताया कि मुझे दूसरी कुछ बीमारियां भी हैं जिनके ऊपर भी पैसा लगता है लेकिन मुझे उम्मीद है एक दिन सब सही हो जाएगा। सुनील से परिवार के बारे में पूछने पर बताया कि मुझे पिछले कुछ दिनों में काफी निजी नुकसान हुआ है लेकिन उस बारे में बता नहीं सकता। यह सब होने के साथ परिवार ने भी मुझे छोड़ दिया। मैंने अपने बेटे को अच्छी शिक्षा दी है उसे स्कूल भेजा और आज मैं यहां हूं। मेरे भाई बहन भी हैं लेकिन उन्हें मेरे से कोई मतलब नहीं है।

About Mohit Swami

Leave a Reply

Your email address will not be published.