Breaking News
Home / खबरे / आज भी हैं भगवान श्री राम के अस्तित्व इस जगह पर, लोग करते है इस चीज़ की पूजा

आज भी हैं भगवान श्री राम के अस्तित्व इस जगह पर, लोग करते है इस चीज़ की पूजा

हमारे हिन्दू धर्म मे किसी को अपना आदर्श माना जाता है तो वह है भगवान श्री राम. आज भी अगर घर मे कोई लड़का होता है तो उसे परिवार वाले भगवान श्री राम के ही आदर्श सिखाते हैं. प्रभु श्री राम ने अपने जीवन हमेशा अपने माता-पिता और अपने से बड़ो की इज़्ज़त की हैं. लोगो का कहना हैं कि पिता की आज्ञा का पालन करना तो कोई प्रभु श्री राम से सीखे जिन्होंने ने अपने पिता के एक बार बोलने पर 14 वर्ष का बनवास काटा था. भगवान श्री राम के पिता राजा दशरत जो कि अयोध्या के राजा थे.

राजा दशरत की वजह से जाना पड़ा था श्री राम को वनवास

राजा दशरत की तीसरी पत्नी कैकई ने उनसे दो वचन माँगे थे जिसमें से पहला वचन यह था कि भगवान श्री राम को 14 वर्ष का बनवास पूरा करना होगा और दूसरा वचन यह था कि कैकई का बेटा भरत अयोध्या का राजा बने. भगवान श्री राम ने अपने पिता दे दिए हुए इस वचन के लिए अयोध्या की राज गद्दी को भी छोड़ दिया और इतना ही नही बल्कि अपनी पत्नी सीता के साथ 14 साल के बनवास के लिए चले गए. श्री राम ने अपने पिता के लिए सब कुछ छोड़कर 14 वर्ष का वनवास पूरा किया.

यूपी का मुख्यमंत्री ने खुद ने दिए श्री राम के होने के प्रमाण

लोगो कहना है कि बेटा हो तो श्री राम म जैसा जो अपने पिता का दिया हुआ वचन निभाने के लिए 14 वर्ष का वनवास भी काट ले. यही कारण है कि आज जब भी घर मे बेटा होता है तो उसे भगवान श्री राम के संस्कारो के बारे मे बताया जाता है. आपकी जानकारी के लिए बता दे कि आज भी भगवान श्री राम के अंश भारत मे मौजूद हैं और इस बात का प्रमाण खुद उत्तर प्रदेश राज्य के मुख्यमंत्री योगिआदित्य नाथ हैं. आइए आपको बताते हैं को भारत मे ऐसी कोनसी जगह हैं जहाँ भगवान श्री राम के होने का प्रमाण हैं.

अयोध्या में है आज भी भगवान श्री राम के होंने के प्रमाण

वर्तमान समय मे अयोध्या उत्तरप्रदेश राज्य के अंतर्गत आता हैं. अयोध्या को सिटी ऑफ इंडिया के नाम से भी जाना जाता हैं. अयोध्या वही जगह हैं जहाँ भगवान श्री राम का जन्म हुआ था. अगर सीधे शब्दों में बोला जाए तो अयोध्या प्रभु श्री राम की जन्म भूमि हैं. वर्तमान समय मे अयोध्या में जहाँ भगवान श्री राम का भव्य राम मंदिर बन रहा है उंस जगह भगवान श्री राम के होने के प्रमाण मिले हैं. रामायण में लिखा है कि जिस जगह भगवान श्री राम का मंदिर बन रहा है वहा भूतकाल में राम जी का महल ही था लेकिन जब भारत मे मुगलो का राज आया तो उन्होंने उसे तुड़वाकर वहां बाबरी मजिद बना दी. लेकिन साल 1991 में लोगो ने मिलकर उंस मज्जिद को तोड़ दिया और वहां पर भगवा रंग फेरा दिया. हालहि में सुप्रीम कोर्ट में राम मंदिर का केस जीत लिया है और यह ऐलान हो गया है कि यहां फिर से भगवान श्री राम का ही मंदिर बनेगा. राम मंदिर अयोध्या में बनने जा रहा हैं क्योंकि इस जमीन पर आज भी वहाँ रहने वाले लोग भगवान श्री राम के होने को महसूस करते हैं.

About Mohit Swami

Leave a Reply

Your email address will not be published.