Breaking News
Home / खबरे / मां की ममता के आगे यमराज भी हुए लाचार, मर कर फिर जिंदा हुआ बेटा

मां की ममता के आगे यमराज भी हुए लाचार, मर कर फिर जिंदा हुआ बेटा

कहा जाता है कि मां की ममता के आगे कुछ भी बड़ा नहीं होता है। मां से बढ़कर इस दुनिया में कुछ नहीं है। मां जितना प्यार अपने बच्चों को करती है उतना ही शायद कोई कर पाता है। कहा जाता है कि मां अपने बच्चे को बचाने के लिए किसी से भी लड़ जाती है। मां सदैव ही अपने बच्चों का भला चाहती है और उन्हें हर आंच से दूर रखना चाहती है। आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से एक ऐसी ही घटना के बारे में बताने जा रहे हैं जिससे यह सिद्ध हो जाएगा कि मां की ममता से बढ़कर कुछ नहीं होता। मां अगर चाहे तो यमराज को भी अपना फैसला बदलना पड़ सकता है।

हरियाणा की है घटना

दर्शन हरियाणा में जहां एक तरफ परिवार एक छोटे से बच्चे की अंतिम यात्रा की तैयारियां कर रहा था। तो वही उसकी मां अपने बच्चे को लिपट कर कह रही थी कि तुम्हें कुछ नहीं हो सकता मैं तुम्हें कुछ नहीं होने दूंगी। वह बार-बार अपने बेटे से यही कहती रही थी उठ जा मेरे जिगर के टुकडे तुझे कुछ नहीं होगा मैं तेरे बिना इस दुनिया में कैसे रह पाऊंगी। डॉक्टरों ने बच्चे को मृत घोषित कर दिया था लेकिन बच्चे की मां कहां मानने वाली थी। मां की इस पीड़ा को देखकर यमराज को भी अपना फैसला बदलना पड़ा। इसके तुरंत बाद एक ऐसा चमत्कार हुआ कि उसने आधुनिक विज्ञान को भी पीछे छोड़ दिया।

डॉक्टरों ने कर दिया था मृत घोषित

यह घटना हरियाणा के बहादुरगढ़ जिले की है जहां एक बच्चे को हॉस्पिटल में एडमिट करवाया गया जिसके बाद उसे मृत घोषित कर दिया गया। जहां हितेश और जानवी नाम की एक दंपति रहती हैं। उनके बच्चे को कुछ दिन पहले टाइफाइड हो गया था जिसके बाद उन्होंने अपने बच्चे को नजदीकी रोहतक के एक अस्पताल में भर्ती करवाया। लेकिन डॉक्टरों ने उसे दिल्ली ले जाने को कहा। जिसके बाद दंपती ने अपने बच्चे को दिल्ली अस्पताल में भर्ती करवा दिया। लेकिन इलाज के दौरान बच्चे को मृत घोषित कर दिया गया। बच्चे के माता पिता मृत्यु शरीर को लेकर घर आ गए थे और उसकी मां अपने बेटे से लिपट लिपट कर रो रही थी।

रात होने के कारण नहीं हो सका अंतिम संस्कार

मृत शरीर को घर लाने के बाद रात हो गई थी जिससे बच्चे का अंतिम संस्कार नहीं हो पाया। उसकी मां पूरी रात बच्चे से लिपट कर रो रही थी। इसके बाद चमत्कार हुआ और बच्चे में हलचल नजर आने लगी। इसके बाद बच्चे को नजदीकी अस्पताल में ले जाया गया और आज वह स्वस्थ होकर घर भी आ गया है। मां की ममता का यह है आर्टिकल आपको पसंद आए तो अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करिए।

About Mohit Swami

Leave a Reply

Your email address will not be published.