Breaking News
Home / खबरे / बचपन में सुनने की शक्ति खोने के बाद 4 महीने की तैयारी कर बनी आईएएस अधिकारी, बनाया अनूठा रिकॉर्ड

बचपन में सुनने की शक्ति खोने के बाद 4 महीने की तैयारी कर बनी आईएएस अधिकारी, बनाया अनूठा रिकॉर्ड

भारत में यूपीएससी की परीक्षा सबसे कठिन मानी जाती है जहां लोग इसकी तैयारी करने के लिए दिन रात एक कर देते हैं इसके बावजूद भी वर्षो के संघर्ष के बाद उन्हें सफलता मिलती है। वही काफी लोग ऐसे भी होते हैं जो सफल होने में नाकाम हो जाते हैं। काफी बार ऐसा भी देखने को मिला है कि यूपीएससी की तैयारी करने वाले उम्मीदवार जब सफल नहीं हो पाते हैं तो उनका मानसिक संतुलन हिल जाता है। वर्तमान समय में जो शख्स शारीरिक रूप से पूर्णतया स्वस्थ है उसको अधिक तवज्जो दी जाती है वही शारीरिक रूप से दिव्यांग लोगों को घृणा की दृष्टि से देखते हैं। काफी लोग जो किसी कारणवश दिव्यांग हो जाते हैं वह अपने जीवन से हार मान लेते हैं। लेकिन कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जो ऐसी परिस्थितियां आने के बाद भी जीवन में संघर्ष करते हैं और अपने मेहनत के बलबूते एक ऐसा मुकाम हासिल करते हैं जो एक सामान्य और स्वस्थ व्यक्ति भी नहीं कर पाता है।

यूपीएससी की परीक्षा देने के बाद आईएएस, आईपीएस, आईएफएस जैसे उच्च पद मिलते हैं। लेकिन यह रास्ता इतना आसान नहीं होता है। जो व्यक्ति इस रास्ते पर चल पड़ता है उसके लिए सबसे जरूरी एकाग्र और सब्र होता है। आज आपको एक ऐसी महिला के बारे में बताते हैं जिसने बचपन में ही सुनने की शक्ति को दी थी इसके बावजूद भी अपने मेहनत के बलबूते आईएएस अधिकारी बनकर देश की सेवा कर रही हैं।

सौम्या शर्मा ने बचपन में खो दी थी सुनने की शक्ति

हम बात कर रहे हैं दिल्ली की रहने वाली एक सामान्य और मध्यम वर्ग की सौम्या शर्मा के बारे में जिसने बचपन में है सुनने की शक्ति को दी थी इसके बावजूद उन्होंने यूपीएससी की तैयारी की। उनके लिए यह सब बिल्कुल भी आसान नहीं था लेकिन इसके बावजूद भी उन्होंने हार नहीं मानी। सौम्या शर्मा का जीवन काफी कठिनाइयों से बीता है लेकिन उन्होंने अपनी मंजिल को खुद से दूर नहीं होने दिया।

मात्र 4 महीने की तैयारी में बनी आईएएस अधिकारी

सौम्या शर्मा ने बचपन में ही सुनने की शक्ति को दी थी लेकिन इसके बावजूद भी वह पढ़ाई में काफी होशियार थी। सौम्या शर्मा ने अपने बचपन की पढ़ाई दिल्ली से ही की इसके बाद मात्र 16 वर्ष की उम्र में ही उन्होंने सुनने की क्षमता खो दी। इसके बाद उन्होंने काफी मेहनत की और 2017 में दिल्ली की नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी से एलएलबी की पढ़ाई कंप्लीट की। यूपीएससी की तैयारी करने के बाद उन्होंने मात्र 4 महीने में ही यूपीएससी क्लियर कर दिया और टॉप रैंक भी हासिल की। आज वह आईएएस अधिकारी बनकर देश की सेवा कर रही हैं।

About Mohit Swami

Leave a Reply

Your email address will not be published.